0

he doesn’t like a domineering wife | नाजुक पत्नी लुभाती: पति को रौबदार बीवी पसंद नहीं, महिला कमजोर नहीं बनना चाहती; प्यार की इस रस्साकशी में जीत किसकी

Share

नई दिल्ली5 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

पुरुषों जैसा बनने की होड़ में महिलाएं अपनी खूबियों को खो रही हैं। चैट रूम में आज चर्चा एक ऐसे कपल की जहां पत्नी की शिकायत है कि पति को उसकी रौबदार पर्सनैलिटी पसंद नहीं।

पति को पत्नी के व्यवहार में कोमलता चाहिए और पत्नी अपना रौब छोड़ना नहीं चाहती। रिलेशनशिप काउंसलर डॉ. माधवी सेठ बता रही हैं पति-पत्नी की इस समस्या का समाधान।

मां ने मुझे लड़कों की तरह पाला। उनका मानना है कि लड़की होने के कारण उन्हें बहुत समझौते करने पड़े। पढ़ाई में अव्वल होने के बावजूद उन्हें पढ़ाया नहीं गया। शादी के बाद उनके सपने घर-गृहस्थी की जिम्मेदारियों में उलझ गए। मां नहीं चाहतीं कि मेरे साथ ऐसा कुछ हो इसलिए उन्होंने मुझे हमेशा स्ट्रांग होना सिखाया।

लेकिन शादी के बाद पति को मेरा व्यवहार पसंद नहीं आता। उनकी शिकायत है कि मुझमें महिलाओं की तरह नजाकत क्यों नहीं है? स्त्री रौबदार क्यों नहीं हो सकती? क्या पत्नी में नजाकत होना जरूरी है?

हम सब की पर्सनैलिटी में हमारे हालात का बहुत बड़ा रोल होता है। जैसे हमारे हालात होते हैं हमारा व्यवहार भी वैसा ही हो जाता है। आपकी मां ने जो सहा, वो आपको न सहना पड़े इसलिए उन्होंने आपको स्ट्रांग बनाया। लेकिन स्ट्रांग होने का मतलब पुरुष जैसा होना नहीं है।

महिलाएं कमजोर नहीं

ये कहां लिखा है कि औरत कमजोर होती है? पुरुष को स्त्री ही तो जन्म देती है। जब सृजन का दायित्व ही औरत के कंधों पर है, तो वो कमजोर कहां से हुई? हर बच्चा अपनी मां के संरक्षण और उसकी देखरेख में बड़ा होता है, फिर चाहे वो स्त्री हो या पुरुष, फिर औरत कमजोर कैसे हुई?

ये महिलाओं की अपनी मानसिकता है कि वो खुद को पुरुषों से कम आंकती हैं। पुरुष के लिए दुनिया का सबसे स्ट्रॉन्ग इंसान उसकी मां होती है, क्योंकि मां ही हम सब की पहली गुरु हैं। वही दुनिया से हमारा परिचय कराती है, हमें अच्छा इंसान बनाती है। इसके लिए शारीरिक बल की नहीं, ममत्व की जरूरत होती है। शारीरिक बल से स्ट्रांग होना या पुरुषों की तरह व्यवहार करना स्त्री को उसके प्राकृतिक गुणों से दूर कर देते हैं। प्यार, ममता, परिवार को जोड़े रखने का हुनर महिलाओं को खास बनाता है। महिलाओं के बिना परिवार की कल्पना भी नहीं की जा सकती। फिर महिलाएं कमजोर कैसे हुईं?

पुरुष मां की छवि ढूंढता है

पत्नी में पुरुष अपनी मां की छवि ढूंढता है। वह चाहता है कि पत्नी आकर उसकी मां की तरह घर को प्यार की डोर से बांधे रखे। पुरुष बचपन से महिला को मां, बहन, दोस्त के रूप में देखता है। उसे उनकी नजाकत लुभाती है। लेकिन जब रौबदार बीवी घर आ जाती है तो उसे समझ नहीं आता कि उसके साथ कैसा व्यवहार करे।

स्त्री-पुरुष के आकर्षण का केंद्रबिंदु ही यही है कि वो एक दूसरे से बिल्कुल अलग हैं। आकर्षण हमेशा अपोजिट के प्रति ही होता है। हम सब अपने पार्टनर की उन खूबियों से आकर्षित होते हैं, जो हम में नहीं हैं। पुरुष को स्त्री की नजाकत पसंद आती है और स्त्री को पुरुष की रौबदार पर्सनैलिटी। यही दोनों को आकर्षित करते हैं।

बराबरी क्यों?

दुनिया का कोई भी पुरुष कभी भी स्त्री की बराबरी नहीं कर सकता। शारीरिक बल से सब कुछ हासिल नहीं किया जा सकता, उसके लिए प्यार, समर्पण, वात्सल्य की जरूरत होती है, जो स्त्री का खास गुण है। हम पैसे से दुनिया का अच्छे से अच्छा खाना खरीद सकते हैं, लेकिन उसमें क्या वो स्वाद ला सकते हैं जो मां के हाथों से बने खाने में होता है? दुनिया के हर सफल पुरुष की कामयाबी के पीछे औरत का हाथ होता है, फिर औरत कमजोर कहां से हुई?

ये इंसान की फितरत है कि हम दुनिया की हर खूबसूरत चीज के प्रति आकर्षित होते हैं। उसे छूना चाहते हैं और मिल जाए तो सहेजकर अपने पास रखना चाहते हैं। औरत भी कुदरत का बनाया एक ऐसा ही नायाब तोहफा है, जिसकी खूबसूरती के प्रति पुरुष आकर्षित होता है और उसे पाना चाहता है।

अपनी खूबियों को पहचानें

स्त्री औरत मां के रूप में पुरुष को न सिर्फ जीवन देती है, बल्कि उसे जीवन का पाठ भी पढ़ाती है। बहन के रूप में वो उसके बचपन की साथी बनती है। पत्नी के रूप में वो उसकी बेस्ट फ्रेंड बनती है और जीवन के हर कठिन मोड़ पर उसके साथ खड़ी रहती है। बेटी के रूप में वो उसका सहारा बनती है, उसके घर में खुशियां लाती है, ससुराल जाकर पिता का नाम रौशन करती है… अपने हर रूप में औरत सबल है, कमजोर कहां है?

प्रकृति ने ही स्त्री को सुंदर और नाजुक मिजाज बनाया है। इन गुणों को कम आंकने के बजाय इनकी खूबियां पहचानें। थोड़ा सा खुद को बदल कर देखिए, स्त्री होने के महत्व को समझिए, फिर आप खुद को और ज्यादा स्ट्रांग पाएंगी।

चैट रूम की एक और खबर पढ़ें-

पति को टिप-टॉप पत्नी चाहिए, ताने देता, मजाक उड़ाता, ठीक से बात नहीं करता, दूसरी महिलाओं से मेरी तुलना करता है

ज्यादातर महिलाओं की ये सबसे बड़ी समस्या है कि वो पति, बच्चे, घर, परिवार की सभी जिम्मेदारियां पूरी ईमानदारी ने निभाती हैं, लेकिन अपने प्रति बेहद लापरवाह हो जाती हैं। शादी के कुछ साल बाद ही इन्हें लगने लगता है कि अब सज-धजकर क्या करना। शादी के बाद ज्यादातर महिलाएं अपनी फिटनेस पर भी ध्यान नहीं देतीं। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पति ने बेडरूम में कैमरा लगाया, किसी से बात नहीं करने देता, सजने-संवरने पर भी लगाई पाबंदी; पत्नी अब चाहती तलाक

रिश्ते में जब शक का कीड़ा कुलबुलाने लगता है तो इसके घाव इतने गहरे होते हैं कि जिंदगी नासूर बन जाती है। बिना गलती के पल-पल ये सफाई देना कि ‘मेरा कोई कसूर नहीं’ व्यक्ति को अंदर ही अंदर खाए जाता है। ऐसे में एक छत के नीचे साथ रहना मुश्किल हो जाता है।

चैट रूम में आज चर्चा एक ऐसे कपल की जहां पति की शक करने की आदत से पत्नी इतनी परेशान हो चुकी है कि वो रिश्ते से बाहर निकलना चाहती है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

खबरें और भी हैं…

#doesnt #domineering #wife #नजक #पतन #लभत #पत #क #रबदर #बव #पसद #नह #महल #कमजर #नह #बनन #चहत #पयर #क #इस #रससकश #म #जत #कसक