0

No mediclaim for dental disease, plastic surgery | दांत की बीमारी, प्लास्टिक सर्जरी में मेडिक्लेम नहीं: डिलीवरी या IVF में भी क्लेम नहीं, मेडिक्लेम और हेल्थ इंश्योरेंस में अंतर जानिए

Share

नई दिल्ली4 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

हेल्थ इंश्योरेंस और मेडिक्लेम को लेकर कई बार लोग कंफ्यूज रहते हैं। लेकिन दोनों एक नहीं हैं जबकि दोनों स्वास्थ्य से जुड़ी बीमा को ही कवर करते हैं।

मेडिक्लेम में किसी खास बीमारी का इलाज एक सीमा तक ही होता है। जबकि हेल्थ इंश्योरेंस में डायग्नोसिस, डॉक्टर की फीस भी मिल सकती है।

मेडिक्लेम में एंबुलेंस पर खर्च हुए पैसे का रिइम्बर्समेंट नहीं मिलता। लेकिन हेल्थ इंश्योरेंस में एक लिमिट तक यह रिइम्बर्स किया जाता है।

मेडिक्लेम में मरीज का हॉस्पिटलाइज्ड होना जरूरी है। यदि हॉस्पिटल में एडमिट नहीं हो रहे तो तो मेडिक्लेम इंश्योरेंस लागू नहीं होता।

मेडिक्लेम में हेल्थ इंश्योरेंस के मुकाबले कवरेज कम होता है। आमतौर पर यह 5 लाख से अधिक नहीं हो सकता। जबकि हेल्थ इंश्योरेंस में कंप्रिहेंसिव पॉलिसी को शामिल किया जाता है।

अगर मेडिक्लेम 5 लाख का है तो आप एक साल के अंदर कई क्लेम कर सकते हैं। एसुअर्ड अमाउंट खत्म होने के बाद मेडिक्लेम का लाभ नहीं ले सकते। जबकि हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में साल में एक क्लेम ही किया जा सकता है।

आज के ‘टेकअवे’ में हेल्थ इंश्योरेंस की बारिकियों को समझेंगे।

यह मिथ है कि स्मोकिंग और शराब पीने वालों को मेडिक्लेम की पॉलिसी नहीं मिलती। इससे जुड़े क्या टर्म और कंडीशन हैं, इस ग्रैफिक से जानते हैं-

सभी हेल्थ इंश्योरेंस प्लान पहले से मौजूद बीमारियों को कवर करते हैं। लेकिन, इन्हें 48 महीने के बाद ही कवर किया जाता है। कुछ 36 महीने बाद इन्हें कवर करते हैं।

हालांकि, पॉलिसी खरीदते वक्त ही पहले से मौजूद बीमारियों के बारे में बताना होता है। इससे क्लेम सेटलमेंट में दिक्कत नहीं आती है। यह भी एक मिथ है गंभीर बीमारियों में हेल्थ इंश्योरेंस नहीं मिलता।

अस्पतालों में अब 100 प्रतिशत कैशलेस ट्रीटमेंट की शुरुआत की गई है। पहले 80% तक कैशलेस और 20% अपने पॉकेट से पैसे देने होते थे। लेकिन अब इंश्योरेंस रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने बदलाव किया है।

हेल्थ इंश्योरेंस लेने वाले लोग टीपीए के बारे में जानते होंगे। TPA यानी थर्ड पार्टी एडमिनिस्ट्रेटर किस तरह हेल्थ सर्विसेज से जुड़ा है, आइए इसे जानते हैं-

पहले इंश्योरेंस कंपनी के नेटवर्क के बाहर के अस्पताल में इलाज कराने पर कैशलेस फैसिलिटी नहीं मिलती थी। रिइम्बर्समेंट क्लेम करना पड़ता जिसमें कई तरह के विवाद होते और इसमें देरी होती।

छोटे शहरों और ग्रामीण इलाके के लोगों को नेटवर्क के अस्पतालों में कैशलेस इलाज के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती थी।

ग्रैफिक्स: सत्यम परिडा

टेकअवे की दो खबरें और पढ़ें-

बिना चीरा माइक्रोबोट्स करेंगे सर्जरी:टैबलेट के जरिए खून की नलियों में उतरेंगे, ट्यूमर तक ले जाएंगे किमोथेरेपी की दवा, साइड इफेक्ट नहीं

मानव शरीर में सेल्स, टिश्यूज, खून की नलियां, धमनियों का ऐसा जाल है कि बीमारी को जड़ से खत्म करना चुनौतीपूर्ण हो जाता है।लेकिन कल्पना करें कि छोटे रोबोट की सेना शरीर में प्रवेश कर उन जगहों पर जाए जहां टिश्यूज डैमेज हैं तो क्या कहेंगे। जहां ट्यूमर हो वहां भी दवाइयां पहुंचा दे तो क्या कहेंगे।‘टेकअवे’ में आज माइक्रोबोट्स की दुनिया में झांकते हैं।

पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

प्याज के गोदाम में लगेंगे AI सेंसर:बोरे में 1 भी प्याज सड़ा मिला तो किसान को अलर्ट मिलेगा, खाद-पानी के छिड़काव पर कंट्रोल

भारत में देखरेख की कमी, खराब इंफ्रास्ट्रक्चर की वजह से हर साल 16% फल और सब्जियां खराब हो जाती हैं। वहीं 10% तिलहन, दलहन और दूसरे अनाज भी बर्बाद हो जाते हैं।बड़ा हिस्सा खुले में स्टोर किया जाता है जिसकी वजह से भी अनाज की बर्बादी होती है। फल और सब्जियां कोल्ड स्टोरेज और ट्रांसपोर्टेशन की सही व्यवस्था न होने से खराब होती हैं।फल, सब्जी, अनाज के बेहतर रखरखाव के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI)का इस्तेमाल करने की योजना सरकार बना रही है। शुरुआत प्याज की फसलों से होगी।आज का ‘टेकअवे’ AI बेस्ड वेयरहाउस पर।

पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

खबरें और भी हैं…

#mediclaim #dental #disease #plastic #surgery #दत #क #बमर #पलसटक #सरजर #म #मडकलम #नह #डलवर #य #IVF #म #भ #कलम #नह #मडकलम #और #हलथ #इशयरस #म #अतर #जनए